Wednesday, 29 August 2012

आत्मा होती भी है कि नहीं होती - कृष्णगोपाल


ब्लागर परिचय की श्रंखला में आपको एक नये ब्लागर से मिलाते हैं । देखिये और जानिये इनके विचार ।
इनका शुभ नाम है - कृष्ण गोपाल । और इनकी Industry है - Government और इनका Occupation है - Retired Gazetted Officer और इनकी Location है  - AGRA U.P. India कृष्ण गोपाल जी अपने Introduction में कहते हैं -  I belong to a middle class family.D.O.B. 15.1.1950.Started service as clerk in Post Office in 1970 and passed examinations and became Gaz.Officer.Retired in2010.I wanted to be in teaching line but could not study after B.A.due to the poorness. और इनका Interests है - Reading, writing, drawing, listening music, visiting places of natural scenes. और इनकी Favourite Films हैं - All good Hindi films.Some are Amar Prem, Amanush, Silsila, Sangam, Umrao jaan etc. और इनका Favourite Music है - Classical music, films music of very good films और इनकी Favourite Books हैं - Keith's books on science and his views on soul, religion etc. और इनका ब्लाग है - AS I THINK ( क्लिक करें )
और ये हैं इनके ब्लाग से कुछ  विचार - 
जैसा कि मैं सोचता हूँ । मैं बिलकुल ज्ञानी नहीं हूँ । मैं तो केवल ज्ञान के जल का प्यासा हूँ । और जब प्यास हो । तो कोई भी कहीं भी खोजता फिरता है । इसी तरह 

मैं अपनी प्यास को बुझाने के लिए विद्वानों की पुस्तकें और समाचार पत्र खास तौर से अंग्रेजी के दैनिक - टाइम्स ऑफ इंडिया के कॉलम “ द स्पीकिंग ट्री ” लंबे समय से पढ़ता  रहा हूँ । लेकिन किसी के विचारों के प्रभाव का दवाब मुझ पर नहीं पड़ा । किसी को भी किसी के विचारों का विना सोचे समझे नहीं मान लेना चाहिए । बल्कि जिसको स्वीकार करने को  आपका मन कहे । वही मानना चाहिए । मैंने किसी के उपदेश या पुस्तक में कोई विचार मूल्यवान और स्वीकार किए जाने योग्य पाया । तो उसे मैंने चुनकर अपने मन में रख लिया । फिर भी मैं यह नहीं कहता हूँ कि - मैंने धर्म और आध्यात्मिकता के ज्ञान के बारे में उच्च स्टार प्राप्त कर लिया है । हाँ मैंने समझने की कोशिश जरूर की है । और इसी कोशिश के आधार पर मैंने अपने विचार व्यक्त करने की कोशिश  की है । मैं पाठकों की अपने इन विचारों के संबंध में प्रतिक्रिया जरूर जानना चाहूँगा ।
मैं दो शब्द अपने बारे में कह दूँ । मैं एक अति सामान्य परिवार से हूँ । कुछ रुचियों में पढ़ने और पढ़ने की रुचि भी थी/है । 1968 में ग्रेजुएशन करने के बाद आगे बाहर पढ़ा पाना मेरे पिताजी के लिए संभव न था । अतः सर्विस के लिए कोशिश करने लगा ।   मास्टर बनना चाहता था । बन गया पोस्ट ऑफिस में 

अधिकारी । मैं 1970 में क्लर्क भर्ती हुआ । और कुछ परीक्षाएँ पास करके राजपत्रित अधिकारी बन गया । और 2010 में रिटायर हुआ । पोस्ट ऑफिस में बहुत कार्य रहता है । ऑफिस में काम करने के बाद प्रायः घर पर भी काम लाना पड़ता था । अतः विभाग की किताबें पढ़ने के बाद अन्य किताबें पढ़ने का समय नहीं मिलता था । यह दिक्कत रिटायरमेंट के बाद खत्म हो गयी । और समय था । और मैं किताब की दुकान पर जाता । तो कोई न कोई किताब जरूर ले आता हूँ ।
काफी समय से मैं देखता आ रहा था कि - समाज में बहुत सारी पुस्तकें ऐसी हैं । जो ज्ञान देने की बजाय अज्ञानता दे रहीं हैं । और जो सस्ती कीमत की कुछ पुस्तकें  बस या ट्रेन में बेची जाती हैं । उन्होंने तो व्यक्तियों की सोच बिलकुल खोखली करके अंधविश्वासी बना दिया है । और बना रहीं हैं । क्योंकि उनमें लिखी बातों को ज्ञान विज्ञान कि कसौटी पर परखे विना । उन बातों का सही अर्थ जाने विना । सहर्ष स्वीकार किया जाता रहा है । और किया जा रहा है । इससे सामाजिक धार्मिक और आध्यात्मिक ढांचा विघटित हुआ जा रहा है । हमें चलने के लिए पैर दिये हैं । पर हममें से कुछ विचारों से लँगड़े हो गए हैं । देखने के लिए आँखें दी गयी हैं । पर अंधविश्वा्सों का मोतियाबिद छा गया है  । सुनने के लिए कान दिये गये हैं । लेकिन सही बात 

सुनाई नहीं पड़ती है । सोचने समझने के लिए दिमाग दिया गया है । लेकिन किंकर्तव्यविमूढ़ हो चुके हैं ।
जिसने जो कह दिया । सही गलत में फर्क किए विना वही सही मान लेते हैं । कुछ इसी तरह की आधारहीन  बातों का विरोध करने का मेरा मन तभी से होता रहा है । लेकिन कोई प्लेटफार्म नहीं मिल पा रहा था ।
ब्लॉग स्पॉट के माध्यम से यह कार्य उचित  प्रतीत  हुआ । अतः विचार ब्लॉग - जैसा कि मैं सोचता हूँ .. में  प्रस्तुत हैं । लेखों ( आर्टिकल ) के माध्यम से । कुछ आर्टिकल हिन्दी में हैं । कुछ अँग्रेजी में भी हैं ।
मेरे विचारों में और अन्य लोगों के विचारों में फर्क है । जिसका मुख्य विषय है “ आत्मा ” । क्या आत्मा है । होती है ? क्या मरने के बाद भी कोई संसार है ? क्या आत्मा शरीर से निकलकर  दूसरे शरीर में प्रवेश कर 

जाती है ? क्या जब दूसरा शरीर नहीं मिलता है । तो क्या कुछ समय के लिए भूत प्रेत बनकर रहती है ? क्या पूर्व जन्म के अच्छे कर्मों और मरने के समय इच्छा रहित होने पर आत्मा जीवन मरण के चक्कर से मुक्त होकर ईश्वर में विलीन होकर शरीर धारी जो मर चुका है । मोक्ष पा जाता है आदि आदि । आत्मा की विचार धारा एक ऐसी धुरी है । जिसके  चारो ओर ये उपरोक्त विचार घूमते हैं । जैसे कि भगवान का सशरीर होना । अस्तित्व । उसे पाने के लिए तरह तरह के अतर्कपूर्ण कर्मकांड करना । जन्म से मृत्यु तक । और मृत्यु के बाद तक भी अनेक कर्म कांड करना ।
इन सब बातों को अपनी नन्ही बुद्धि के द्वारा । प्राप्त किए गए ज्ञान के आधार पर । मैंने विभिन्न लेखों को । ब्लॉग पर अपने विचार पोस्ट करके । बताने की कोशिश की है । मेरा 

अभिप्राय किसी भी व्यक्ति की धार्मिक और आध्यात्मिक भावनाओं को रत्ती भर भी ठेस पहुंचाना नहीं है । क्योंकि न तो मैं नास्तिक हूँ । और न ही कोई प्रवचन कर्ता हूँ । मेरा केवल और केवल मक़सद है कि - जो धार्मिक पुस्तकें जिनके तथ्य आधारहीन हैं । जो विज्ञान सम्मत नहीं है । उनको दुबारा ज्ञान/तर्क के चश्मे को लगाकर पढ़ें । और उसी तरह सोचने के लिए रुकें । मनन करें । और आगे अपने गंतव्य पर जाएँ । जैसे कि रोड पर लाल बत्ती दिखाई पड़ने पर हम  बाहन  को रोकते हैं । दूसरा ट्रेफिक निकल जाने  के लिए पीली बत्ती रहने तक रुकते हैं । और हरी बत्ती होने पर अपने गंतव्य पर जाने के लिए बाहन स्टार्ट करके चले जाते हैं ।
वास्तव में तथाकथित ज्ञान को हममें से ज़्यादातर लोगों ने एक लोहे के बॉक्स में रख रक्खा था/है । जिसमें 

अंधविश्वासों की नमीं से पर्त दर पर्त इतनी जंग लग चुकी है कि बॉक्स को खोलने पर लोहा हाथों में घुसने की सम्भाबना से टिटनेस सेप्टिक होने का दर बना रहता है । जरूरत है । लोहे के बॉक्स को हटाकर स्टेनलेस स्टील के बॉक्स में रक्खें । ताकि पुनः जंग न लगे । हमें जानना चाहिए कि - वास्तव में भगवान का क्या रूप है ? आत्मा है भी । होती भी है कि नहीं । हम अंधविश्वासों के जिस अंधे कुएं में सदियों से गिरे पड़े हैं । उससे बाहर आकर तो देखें । तब हमें लगेगा कि कुएं के बाहर दुनियाँ कितनी सुंदर है । कितना उजाला ही उजाला है । अगर हम हमेशा सकारात्मक सोच बनाए रखने की आदत बना लें । तो यह संसार । हाँ यही संसार । जिसमे हम रो धोकर किसी तरह जीवन को बोझ 

समझकर धो रहे हैं । वही जीवन वास्तविक लगेगा । और वाकई सब चीजें जैसे - स्वर्ग । नरक । आत्मा । मोक्ष । जीवन के बाद भी जीवन आदि सब काल्पनिक अवास्तविक लगने  लगेंगे । हम अपने अमूल्य जीवन का बहुत सारा अमूल्य समय व्यर्थ की सोच में । अंधविश्वासों । कर्मकांडों में खर्च कर देते है । जो हमें नहीं करना चाहिए । इसी के साथ अपना निवेदन खत्म करता हूँ ।
लेख - क्या ईश्वर है ? 
यदि दुनियाँ में कुछ बिषय विवाद और भृम के हैं । तो उनमे यह भी एक अति विवादास्पद विषय है । कुछ लोग मानते हैं कि - ईश्वर होता है । या है । कुछ मानते हैं कि नहीं हैं । इस बारे में मैंने विस्तार पूर्वक चर्चा अपने अँग्रेजी के लेख Does God Exist में की है । वह लेख बहुत लंबा है । अतः उसकी पुनरावृति करना उचित नहीं समझा । इस लेख को पढ़ने से 

पहले उपरोक्त वर्णित लेख को पढ़ें । उसी संदर्भ में यहाँ कुछ घटनाएँ जो समाचार पत्र में छपीं । उन पर विचार किया जा रहा है । 
घटना जो 19.6.12 को अखवार में छपी ।
19.6.12 को एक घटना छपी कि - एक परिवार में दो ऐसी बच्चियाँ हैं । जिनके सिर आपस में जुड़े हुए हैं । जन्म के समय से ही । कुछ बरसों तक माँ बाप ने मानसिक कष्ट उठाया । और उनमे तथा दोनों बच्चियों में  हीनता की भावना आ गयी । क्योंकि बहुत भारी खर्चे का ऑपरेशन करना उनके लिए संभव नहीं था । किसी तरह बहुत बरसों  के बाद उन्होने ऑपरेशन कराया । डाक्टरों ने सफलता पा ही ली । उनके सिर अलग अलग हो गए । माँ बाप की खुशियों का कोई ठिकाना न 

था । अगर पैसों की व्यवस्था न हो पाती । तो माँ बाप और दोनों बेटियाँ जीवन भर मानसिक कष्ट उठाते रहते । यधपि माँ बाप मानसिक परेशानी से तो उबर गए । लेकिन जो पैसे बेटियों के विवाह में काम आते । बे खर्च हो गए । यहाँ प्रश्न यह उठता है कि क्या ईश्वर है ? कैसे ? लोग कहते हैं कि - ईश्वर बड़ा दयालु है । मगर कैसे ? क्या कोई भी - रचनाकार  । चित्रकार । कुम्हार । जो चित्र । खिलौने । बर्तन आदि बनाता है । क्या वह बदसूरत बनाएगा ? मेरे विचार से नहीं बनायेगा । तो फिर ईश्वर जिसके बारे में असंख्य पन्नों में लिखा गया है कि - दयालु है । क्या अपने द्वारा बनाई गयी कृति । खिलौने ( नवजात शिशु ) को बदसूरत बनाएगा ?  नहीं नहीं । दो जुड़े सिर वाले बच्चे जो न चल सकते है । न स्वयं कपड़े पहन सकते हैं । 

और दैनिक क्रियाओं को स्वयं कर सकते हैं ( कैसे लेट्रिन जा सकते हैं ) अर्थात जीवन विहीन जीवन बिताने को मजबूर हैं । इससे स्पष्ट है कि - इस दुनियाँ में जो कुछ हुआ है । हो रहा है । और आगे होगा । इसमे किसी का कोई दखल नहीं है । हाँ ! इंसान ने अपने द्वारा अर्जित विज्ञान आधारित ज्ञान के आधार पर अपने ( इंसान ) और जानवरों के जीवन में कष्टों को दूर करने के लिए उपाय किए । कर रहा है । और करता रहेगा । इस जुड़वां सिर की बच्चियों के मामले में तथाकथित ईश्वर ने तो जीवन जीवन रहित बना ही दिया । लेकिन डॉक्टरों  के दल ने ( इतना कोंपलीकेटिड ऑपरेशन करना एक डॉक्टर के लिए संभव नहीं है ) अपने प्रयासों से सिर अलग करके उनके जीवन को जीवनमय बनाने की कोशिश करके अलग कर दिये ( चाहे बाद में उनमे से एक या दोनों बच्चियों  मर भी सकती हैं )  यहाँ सोचने वाली बात यह है कि - जिस ईश्वर को हमने देखा नहीं । फिर भी हम कहते हैं कि - जो कुछ अच्छा करता है । ईश्वर ही करता है । और जो खराब होता है 

। वो कौन करता है ? कहा जाता है कि - यह उस व्यक्ति के पूर्व जन्म के खराब कर्मों का फल हैं । कहा जाता है कि पूर्व जन्म के लाखों  सतकर्मों  के कारण मानव योनि मिलती है । तो सतकर्मों से जब मानव रूप मिला । तो फिर पूर्व जन्म के खराब फल बीच में कहाँ से आ गए ? और इस वर्तमान जन्म में इन बच्चियों ने कौन से बुरे कर्म कर लिए ? बच्चे तो स्वयं भगवान के रूप होना बताए जाते है । इससे तो बे डॉक्टर्स ही भगवान हैं । उन्हें हमने देखा तो है कि उन्होने कई कई वर्षों तक दिन रात एक करके डाक्टरी पढ़ कर अर्जित ज्ञान के आधार पर ईश्वर की मर्जी के खिलाफ जाकर ( ईश्वर कि मर्जी थी कि बे दोनों बच्चियाँ ज़िंदगी भर तड़प तड़प कर जीयें । उनके जुड़े सिर अलग करके उनके बदसूरत जीवन को  सुंदर बना दिया । यहाँ मेरा कहने का अभिप्राय यह नहीं है कि - हम ईश्वर को माने ही नहीं । ईश्वर इस रूप में तो विलकुल नहीं है । जिस रूप में हम सब 

जानते हैं । और मानते हैं । ईश्वर तो एक विना रूप का अर्थात निराकार ( फोर्मलेस ) है । और एक परम शक्ति है । जो हमें उसी तरह नियंत्रण करता है । जिस तरह सयुंक्त परिवार में दादा जी ( ग्रांड फादर ) होते हैं । उनसे सब डरते हैं । जबकि वो परिवार के किसी सदस्यों के कार्यों में कोई व्यवधान उत्पन्न नहीं  करते हैं ( करें तो मॉडर्न समय के बच्चे मानेगे भी नहीं ) बल्कि देखते रहते है कि किसी का अनर्थ न हो । और अगर ऐसा देखते हैं । तो सदमार्ग बताते हैं । बे किसी सदस्य को दंड नहीं देते हैं । मारपीट नहीं करते हैं । फिर भी सब उनसे डरते हैं । सम्मान करते हैं । और यही चाहते हैं कि - इनका साया हमारे ऊपर हमेशा बना रहे । अगर बे दंड दें । मारपीट करें । तो क्या कोई उनका सम्मान करेगा ? सब चाहेंगे कि बुढ्ढा कब मरे । कब 

हम आज़ाद हों । हमको हमेशा अपने को उस परम शक्ति से डरना चाहिए । इसलिये नहीं कि - वो हमें दंड दे सकती है । बल्कि इसलिये कि हम निरंकुश न हो जाएँ । निरंकुशता अति खराब स्थित है । अभी हाल में कई मुस्लिम देशों के निरंकुश /तानाशाहों की अति का हश्र /परिणाम देख चुके हैं । अतः हमे परम शक्ति /प्रकृति/नेचर को मानना चाहिए । और ध्यान रखना चाहिए कि अगर हम निरंकुश हुए ( जैसे जंगल और पेड़ों को निरंकुश होकर काट काट कर हम खत्म कर रहे हैं । तो प्रकृति भी हमारी निरंकुशता का परिणाम/दंड  रेगिस्तान /सूखा /पर्यावरण में अत्यधिक बदलाओ के रूप में दे रही है ।
25.6.2012  की घटना पर  विचार - समाचार पत्र में पढ़ा कि - कश्मीर में 200 वर्ष पुरानी  दरगाह जिसमें काफी हिस्सा लकड़ी से बना था । बिजली के शार्ट सर्किट के कारण जल गयी । हिंदुओं के मंदिर भी  चपेट  में आ गए । विचारणीय है कि मंदिरों और 

मस्जिदों में हम इतनी श्रद्धा से सुरक्षा और खुशहाल जीवन के लिए जाते हैं । वहाँ की शक्ति कोई करिश्मा करके ( हम करिश्माओ के किस्से बहुत सुनते/पढ़ते है ) वहाँ उसमें जलकर और झुलस कर मरने वालों को /घायलों की रक्षा करके बचाती क्यों नहीं ? तमाम धार्मिक कहानियों में सुनने को मिलता है कि - कोई अनर्थ होने से पहले “आकाशवाणी” हुआ करती थी । लेकिन अब क्यों नहीं होती है कि - यह स्थान कुछ ही देर में जलने वाला है । मौजूदा लोग तुरन्त भाग जाय । फिर वही प्रश्न उठता है कि - क्या ईश्वर है ? है । तो हम उसे कहाँ और किस रूप में देखते हैं ? कहाँ ढूंढते हैं ? उससे मिलने की चाहत में बाहर क्यों भागते फिरते हैं । जबकि वह एक परम शक्ति के रूप में है । हमारे ही अंदर ।

FRIENDSHIP is heart of life


‎GINGER CAN CONTROL DIABETES: STUDY MELBOURNE~ Ginger a common spice in India kitchens can manage high levels of blood sugar which create complications for long-term diabetic patients, a new study has claimed.
Research from the University of Sydney found that ginger has the power to control blood glucose by using muscle cells.
- Ginger extracts obtained from Buderim Ginger were able to increase the uptake of glucose into muscle cells independently of insulin,"Professor of pharmaceutical chemistry Basil Roufogalis who led the research said in a statement. Courtesy - Deccan Chronicle
--ooo--
Love is like sunshine - It brings a golden glow to its beholder's face.. And a warm feeling all over their body.. It awakens souls and opens eyes..And when its over, it leaves billions of small memories called stars..To remind the world, that it still exists. By Piyuesh
--ooo--
The phrase “Live and let live” means ‘You mind your business, and I will mind mine-and vice versa’…Many times we get into things that are really

none of our business and sometimes those things make us miserable…Be a good friend, but beware of entanglements…It is possible to lose yourself in someone else’s life but that is not God’s plan for you…So, sweet souls, mind your own business and endeavour to live quietly and peacefully…It’s a great way to live and to enjoy life - Joyce Meyer
--ooo--
Birth is first of life ,Love is part of life, Beauty is art of life, Death is the end of life...
But "FRIENDSHIP" is heart of life. By Manoj
--ooo--
You may fall in love with the beauty of someone But remember, finally you have to live with character, not beauty ♥ ♥
--ooo--

It is common to hear people saying on their deathbeds - I only want the Lord to forgive me my sins, and take me to rest ” But those who say such things forget the rest of heaven would be utterly useless if we had no heart to enjoy it!!! What could an unsanctified man do in heaven, if by any chance he got there ? Let that question be fairly looked in the face and fairly answered…No man can possibly be happy in a place where he is not in his element and where all around him is not congenial to his tastes, habits and character…When an eagle is happy in an iron cage, when a sheep is happy in the water, when an owl is happy in the blaze of

noonday sun, when a fish is happy on the dry land – then, and not only then, will I admit that the unsanctified man could be happy in heaven - J. C. Ryle
--ooo--
Who do you think is the hottest ’item girl’ right now ?
A Malaika Arora B Chitrangada Singh C Kareena Kapoor D Katrina Kaif
--ooo--
I have become a rose petal and you are like the wind for me.
--ooo--
THE REAL HELL IS HERE FOR

GAUMAA...WHICH WILL DESTROY EARTH  AND THE DESTRUTION IS BEGIN....ND I AM SURE THIS WILL GREATLY PAINFULL
--ooo--
वक़्त के इम्तिहान जिन्दगी के मिथक तोड़ देते हैं । और इतिहास में नित नये अध्याय जोड़ देते हैं ।
कभी लाज को त्याग मीरा श्याम की हो जाती है । कही लोक लाज के डर से राम सीता को छोड़ देते हैं ।
अनुपम गौतम ।
--ooo--
इंतजार इन आँखों को भी दफ़न है प्यार का । शायद लौट आये कहीं से पल बहार का ।
खुद अपनों की संगदिली के मारे हुए है ये । जिनके लि्ये जिये उनसे हारे हुए हैं ये ।

हो सके तो मरते संस्कार बचा लो । ये छत है हो सके तो इन्हें यार बचा लो ।
जो आज है ये कल को यही आप बनेंगे । आप भी कभी किसी के बाप बनेंगे ।

Wednesday, 22 August 2012

वो मेरी हैं ये कहानी सी लगती है


तुम क्या गये इस शहर से बेख़बर होकर । यहाँ की हर बात अब अनजानी सी लगती है ।
खिलते थे गुलशन के फूल जहाँ । यादों की वो गलियाँ अब बेमानी सी लगती हैं ।
अब तो लगता है इस अहसास से निजात पा लें । कि आज भी वो मेरी हैं अधूरी कहानी सी लगती है ।
जो चले से गये हैं अब तन्हा छोड़कर हमें । जो भी रिश्ते बने कुछ दिन ही सुहानी लगती हैं ।
फिर भी इन दर्द के लम्हों मे भटकना । एक सुहानी अपनी मुकम्मल जिंदगानी लगती है ।
--ooo--
एक दिन एक दरवेश बाजार में बैठा था । बादशाह ने पूछा - भाई क्या कर रहे हो ?
दरवेश बोला - बन्दों की अल्लाह से सुलह करवा रहा हूँ । अल्लाह तो मान रहा है । मगर बन्दे नहीं मान रहे ।
कुछ दिनों बाद दरवेश कब्रिस्तान में बैठा था ।
बादशाह ने कहा - भाई  क्या कर रहे हो ?

दरवेश बोला - अल्लाह की बन्दों से सुलह करवा रहा हूँ । मगर अब बन्दे तो मान रहे हैं । अल्लाह नहीं मान रहा ।
--ooo--
boys are very kind & girls r very selfish - PROOF
most girls don't like to help unknown boys
but all boys are ready anytime 2 help uknoWn girls.
--ooo--
I was so depressed, I was so sad, I was like suffocating. I felt that I was about to die when mah girl left me.. But suddenly I remembered that her best friend also
gave me the number ( mobile ).. Ohh after that I was able to breathe so well and I was so happy :) 
--ooo--
One day Friendship & Love met. Love asked Friendship - Why do You exist if I'm there? So Friendship said - To give a Smile to those eyes in which You leave Tears
--ooo--
once a couple decided to sucide . They went at the highest point n decided to jump 4m there. Boi jump at the first . but the gal didnt jump </3 :(
4m that day, ladies first came into exist...
--ooo--
a girl, no matter hw many lies she tells or hw many tyms she denies it she wll alwayz remember the memories, moments n even single dates dat u have left for her..Because Her boobs never lie.

--ooo--
CONFIDENCE is when U're at the medical store & ask for 20 condoms & U hear 2 girls behind you giggling You turn around, look them in the eyes and say - Make it 22 
--ooo--
A 14 years old boy goes to a party. He meets a 28 years old girl and said - can i dance with you ?
Girl - no, i don't dance with a child.
Boy - oh sorry, i didn't know that you are pregnant .
--ooo--
Heres a pretty funny joke - A guy walks up to a girl sitting at the bar an says - I'd tell u a joke about my dick but it TOO LONG....She responds by say in - well I'd tell u a joke about my pussy but you'd never get it ! 
LMFAO I love it...
Friendship is like peeing on yourself: everyone can see it, but only you get the warm feeling that it brings. LOL!
--ooo--
In school days, Karan Johar ws class moniter !
1 day a new teachr askd him - Hw many studnts r der in ur class ?
He replied - 32 girls, 44 boys & me!"
--ooo--

boy -  if i kiss u nd run what would you think ?
girl - i think tht 1 stupid who can solve the all question in am exm jst went by ticking OBJECTIVE question.
--ooo--
Whats the speed limit for sex ? . 68, coz at 69 u have to turn around !
My friend -  do u no why the great wall of china is one of the 7 wonders of the world ?
Me - no idea
My friend - cuz its the only chinese product that has lasted this long.:)
--ooo--
LMS for
Mirror Mirror On The Wall, You’re The _____ Of Them All
Sexiest ? ♥’(:
Smartest
Freshest
Meanest -__-
Funniest (:
Craziest !
Prettiest (:

Most beautiful
Nicest c:
qiutest
You Can Be My:
B A B Y ; ♥
Boo (:
Flirting Buddy ;3
Friend :)
Best Friend :)))
Brother/Sister [[[:
You Tell Me ? ;o
I Don't Know Yet, :)
Wifey/Hubby ♥ ;D
Textinqq Buddy :)
How much do I like you ?
♥♥♥♥♥
♥♥♥♥
♥♥♥
♥♥

Idek.
If You Snuck In My Room I'd:
Fight. (;
Tickle You. ;p
Tap That. ♥ [ ;

Let You Stay The Night. c:
Cuddle.
Chill. :]
Nothing. -___-
Kick You Out! O.o -If You Kissed Me I'd:
Kiss You Back , ♥ !
Be Surprised.. o:
Slap You. D:<
be like WTF
probubly wouldnt happen
Team:
 Big Booty ;))))
Lil Booty :)))
Crush♥
Babe♥
Boo ;D
Ex </3
 I Love You (no homo)(:
I Miss You ( - ;
Pretty (:
Handsome
Cute;D
Swagg :))))
Friend :))
Gorgeous(:

Liar '
Sexy ;P
Nice(:
Family :)))
Money$$$$
Raper :))))
Swagged Out :))))
Rapist
You Should:
Marry Me on Fb ! ♥
text me ;3
Inbox Me (:
Make This As Status So I Can Like It ? ;p
Call Me. < 3
Be Mine... ♥
--ooo--
wen it rains heavily otha birds go to their nest to hide n avoid the rain... But Eagle flies high above the cloud to avoid it...
-dat waz smth i read...

-problem is the same bt attitude matters...
--ooo--
Teacher - What is 5 plus 4 ?
Mr. Bean - 9
Teacher - What is 4 plus 5?
Mr. Bean - Are u trying to fool me, you've just twisted the figure, the answer is 6!!
--ooo--
The most beautiful feeling in the World.. When you try to look at your friend and you find that your friend is already looking at you :)
Location : Examination Hall :P :D
OUR slogan hehe.
--ooo--
She never stops to amaze me with her beautiful looks, thats why I never say Oops! 
Coz
--ooo--
A 54 yr old woman hd a heart attack & ws taken 2 d hospital. While on d operating table she hd a near death experience. Seeing God she askd - Is my time up ?
God said - No, you hv anothr 34 yrs 2 live."

Upon recovery, d woman decided 2 stay in d hospital & hv a face-lift, liposuction,&
tummy tuck. She even changed her hair color Finally she was released from the hospital. While crossing d road on her way home, she was killed by a truck.
Arriving in front of God, she asked - You said I had another 34 years 2 live.
Why didn't you save me from d truck ?
God replied  - I didn't recognize you!
--ooo--
Lincoln & Student :P
If i get 8 hours to cut a tree, i'll spend 7 hrs 2 sharp my Axe"
-Abraham Lincoln .
If i get 8 hrs to study i'll spend 7 hours to find my books"
-Student x
--ooo--
Todays generation
Six year old boy to a four year old boy - Dude, I found a condom in the balcony.."

Four year old boy - What's a balcony ?
--ooo--
Attitude Of Youth :) We R MOre Brilliant Than Einstein & Newton.. It's Just dey Didn't Leave Anything For Us To Invent 
--ooo--
I am like god to all girls . coz i always watching them bt they hav never seen me.. heheh
--ooo--
gal nd boi wishing each other before xm...
Gal - best of luck!!!
Boi - same to yuh too...
But Gal scored 85 percent
nd Boi failed the xm...
Moral - only boiz wishes r true bi their heart 
--ooo--
i dont know why bt saying - I Love Yuh
is much difficlt for me... Whereas, singing
"I Love Yuh" is much easier for mee... :)
--ooo-
A beautiful girl asks lift from you. On the way she faints and you take her to hospital . Doctor says - Congrats. You are going

to become a father. THAT’S IT. YOU GET TENSED.
You say –  But that baby is not mine.
Girl says – he is only the father of my baby. YOU HAVE MORE TENSION.
Police comes and DNA test is done.Report comes. Which says that you can never become a father. EVEN MORE TENSION FOR YOU.
Any how you thank God and return home. Then you think, “At home I have 2 kids. Whose are those? THIS IS REAL TENSION
--ooo--
Mikayla Fuller don't have big boobs, lol...
jokes, Her Boobs are bigger than her Ass.! 
--ooo--
Our slogan -
Some girls have good looks  some girls have nice moves But life is too short for drama n petty thngs. So kiss slowly, laugh insanely, love truely nd forgive quickly...
Open for ALL POSSIBILITIES... Nd alwayz remember... A reputation is precious
but character is priceless !
--oo--
A man was walking down the street when he saw a woman with the perfect, and I mean PERFECT, breasts he'd ever seen.
He walked up to her and said - Ma'am, you have perfect breasts, and I will pay you $100 to bite them. 

The woman was horrified and began to walk away.
The man caught her and said - Alright, I'll pay you $1,000 to bite your breasts." Still horrified, the woman began to run away.
The man caught her again and said, "Fine. I'll pay you $10,000 to bite your breasts, and not a penny more." The woman then thinks that $10,000 will be worth it, so she finally agreed.
They went into a deserted alley away from the city action. The woman took off her shirt and bra, revealing the perfect breasts. The man then began to touch, squeeze, fondle, poke, and everything to the woman's breasts EXCEPT biting them 
The woman then said - Well, are you gonna bite them or not ? 
The man replied - Nah, too expensive

Wednesday, 8 August 2012

हे भगवान तूने ये क्या किया ?


भगवान को गुस्सा कब आता है ? जब कोई लङकी शादी से पहले Pregnant होती है । और उसकी माँ कहती है - हे भगवान  तूने ये क्या किया ?
--ooo--
फ़ोन पर एक काल -
HE - do you have a boyfriend ?
SHE - yes ! who are you ?
HE -  तेरा भाई । रुक कमीनी घर आता हूँ धुलाई करने ।
AN0TH0R UNKN0WN CALL
HE - do you have a boyfriend ?
SHE - oh no no ! who are you ?
HE - am your boyfriend ..cheat you broke Mah heart !
SHE - oh darling sorry i thought you are my brother !
HE - तेरा भाई ही हूँ कमीनी । आज तो बस घर आने की देर है ।
--ooo--
एक पागल दीवार को कान लगा कर बैठा था । पीछे से डाँक्टर ने आकर पुछा - क्या कर रहे हो ?
पागल - दीवार से कुछ आवाज सुनाई दे रही है । डाँक्टर ने भी दीवार को कान लगा दिया ।

दस मिनट । पन्द्रह मिनट । एक घंटा । दो घंटा । तीन घंटे हो गये ।
डाँक्टर ने ऊब कर पागल को कहा - तीन घंटे हो गये । कहाँ सुनाई दे रही है आवाज ?
पागल ने जवाब दिया - डाँक्टर आपने तो सिर्फ तीन घंटे से कान लगा कर रखा है । मैं तो तीन साल से कान लगाकर बैठा हुँ ।
--ooo--
एक भिखारी एक घर में भीख माँगने गया । अन्दर से एक छोटी सी बच्ची आयी ।
भिखारी - अल्लाह के नाम पर दे दे बेटा ।
बच्ची - मैं बेटा नहीं बेटी हूँ ।
भिखारी - अल्लाह के नम पर दे दे बेटी ।
बच्ची - मेरा नाम संध्या है ।
भिखारी - अल्लाह के नाम पर दे दे संध्या ।
बच्ची - मेरा पूरा नाम संध्या चौधरी है ।
भिखारी - अल्लाह के नाम पर दे दे संध्या चौधरी ।
बच्ची - ये हुयी ना बात । अब माफ़ करो बाबाआआआआआआआआआआआआआआ ।
--ooo--
एक छोटी सी प्यारी सी बच्ची एक दुकान पर गयी । और बोली ।
बच्ची - Uncle जब मैं बङी हो जाऊँगी । तो आप अपने बेटे की शादी मुझसे करोगे ?
दुकानदार मुस्कराकर बङे प्यार से बोला - हाँ बेटा ! जरूर कर दूँगा ।

बच्ची - तो Uncle अपनी होने वाली बहू को एक Dairymilk दो ना ।
--ooo--
एक कंजूस के घर मेहमान आये हुये थे ।
कंजूस - ठंडा पियोगे या गरम ?
मेहमान - ठंडा ।
कंजूस - रूह अफ़जा या पेप्सी ?
मेहमान - Pepsi .
कंजूस - Bottle में पियोगे या गिलास में ?
मेहमान - गिलास में ।
कंजूस -  simple glass में या design वाला ?
मेहमान - Design वाला ।
कंजूस - Lines वाला या  flowers वाला । मेहमान - Flowers वाला ।
कंजूस - गुलाब वाला या चमेली वाला ।
मेहमान - चमेली वाला ।
कंजूस - Sorry  यार ! हमारे घर में ऐसा गिलास नहीं है  ।
--ooo--
आदमी शराब के नशे में जाकर घर सो गया । रात को मर गया । ऊपर जाकर उसने 1 chance और माँगा । उसको मुर्गी बना कर जमीन पर भेज दिया गया । मुर्गी बनने के बाद 1 अंडा देकर बहुत खुश हुआ । जैसे ही दूसरा अंडा देने लगा । उसके सर पर जूता लगा 

।  और उसकी बीबी की आवाज आयी - उठ कमीने ! बिस्तर पर Potty कर रहा है ।
---ooo--
Captain of Military - नौजवानों आगे बङो ।
संता आगे नहीं बढा ।
Captain - तुम आगे क्यों नहीं बढे ?
संता - आपने कहा - 9 जवानों आगे बढो । और मैं 10 वें number पर था ।
--ooo--
A sweet reply by a guy to his girl .
Girl - What will u do if I'll get angry on u ?
Boy - I'll just grab u in my arms and hug u tightly till the warmth of my hug melts ur anger ♥
--ooo--
नौकर - साहब आपका कुत्ता तो आदमी जैसा दिखता है । क्या खिलाते हो ?
साहब - कमीने ये कुत्ता नहीं मेरा बेटा है । Engineering कर रहा है । अभी university exam चल रहे हैं ।
--ooo--
When ur mom or dad says - I need 2 talk 2 U
Dat 1 sentence has d power 2 make U remember evry bad thing u've ever done in ur life !
-
-ooo--
पप्पू जहाज़ में बैठ कर मुंबई अपने अंकल के यहां जा रहा था । फ्लाइट में पायलट ने घोषणा की - हम एक घंटे में लैंड करने वाले हैं । फिर वह माइक बंद करना भूल गया । और अपने साथी पायलट से बोला - अब तो बस एक गरम चाय पियूंगा । फिर एयर होस्टेस के साथ आधे घंटे गप्पे मारूँगा । एयर होस्टेस यह सुन कर माइक बंद करवाने के लिए भागी । और पप्पू के पैर में फंस कर गिर गयी ।
पप्पू बोला - आंटी आपको बड़ी जल्दी है । सुना नहीं । वह पहले चाय पिएंगे ।
--ooo--
बाप - बेटा छोङ दे ये Facebook ये Facbook तुझे रोटी नहीं देने वाली ।
बेटा - हाँ पापा । ये facebook मुझे रोटी नहीं देने वाली । पर रोटी बनाने वाली देगा ।
--ooo--
लङका propose मारे तो लङकी के 5 जबाब हो सकते हैं ।
1 No 2 Yes 3 मैं आपको सिर्फ़ दोस्त समझती हूँ । 4 I m engaged 5 I love someone else.
लङकी किसी लङके को propose करे तो लङके के 5 जबाब  -

1 हाँ । 2 Yes 3 Ok 4 Alright 5 Me 2  
Moral - लङकों का दिल..दिल नहीं दरिया होता है
--ooo--
एक औरत कब्र पर बैठी थी । एक मुसाफ़िर ने पूछा - डर नहीं लगता ?
औरत - इसमें डरने की क्या बात है । कब्र के अन्दर गर्मी लग रही थी । तो बाहर आ गयी ।
--ooo--
कमीनापन दोस्तों का ♥
Girlfriend है ?
नहीं । 
साला Gay 
हाँ है - Girlfriend 
ठरकी साला ।
कल कालेज आयेगा ?
हाँ ।
पढाकू की औलाद ।
नहीं ।
साले कभी तो पढ लिया कर ।
Ice cream खिलायेगा ? 
Ofcourse 

क्यूँ भाई बाप का पैसा है ।
नहीं ।
भिखारी साला ।
दोस्ती निभायेगा ?
हाँ ।
Senti साले देवदास 
नहीं निभाऊँगा । 
ओये साले धोखेबाज ।
FRIEND - They never talk in “simple & straight” words ! But “simply straighten” everything in your life ♥

साले तू एक नम्बर का ठरकी है


True love . Must read .
12 साल के लङके ने  20 साल की लङकी को फ़ूल दिया । लङकी ने किस दिया । 
वो घबरा कर भागा । लङकी ने पूछा - क्या हुआ ?
लङका - गुलदस्ता लेकर आ रहा हूँ ।
लङकी - साले तू एक नम्बर का ठरकी है ।
Must read.
एक लङका TRAIN में चढने लगा । आकाशवाणी हुयी - इसमें मत चढ । पटरी से उतर जायेगी ।
PLANE में चढने लगा । आवाज आयी  - ये crash हो जायेगा ।
BUS में आवाज आयी - ये खाई में गिर जायेगी ।
लङका गुस्से में - कौन है ?
आवाज आयी - GOD
लङका - Engineering में जब admission ले रहा था । तब तुम्हारा गला बैठ गया था क्या ?

वो जब चलती है तो राहों में 100-100 के नोट बिछा देता हूँ ।
वो जब चलती है तो राहों में 100-100 के नोट बिछा देता हूँ
उसके जाने के बाद वो सब नोट उठा लेता हूँ ।

प्यार में कितने घर डूब गये यारो ।
प्यार में कितने घर डूब गये यारो ।
प्यार में पन्द्रह बीस घर डूब गये यारो ।

वो सङक के इस पार थी । हम सङक के उस पार थे ।
कुछ हम आगे बढे । कुछ वो आगे बढी ।
हम कुछ और आगे  बढे । वो भी कुछ और आगे बढी ।
हम कुछ और आगे  बढे । वो भी कुछ और आगे बढी ।
अब हम्म सङक के उस पार थे । और वो सङक के इस पार थी ।

आपने मेरे मन से खेला । आपने मेरे तन से खेला । आपने मेरे धन से खेला । आपने मेरे तन मन धन से खेला । well played ! well played ! well played ! 

प्यार के सितारे जब गर्दिश में होते हैं । लैला घर में और मजनूँ जेल में होते हैं ।
मैं तेरे प्यार में पागल हुआ छलिये । मैं तेरे प्यार में पागल हुआ छलिये ।
आयोडेक्स मलिये काम पर चलिये ।

तुम हर रात मेरे ख्वावों में आओ । तुम हर रात मुझे यूँ ही सताओ ।
मेलोडी काओ खुद जान जाओ ।

दूर से देखा तो कुछ दिखा नहीं । दूर से देखा तो कुछ दिखा नहीं ।
पास जा के देखा तो कुछ था ही नहीं ।

धरती सो रही है । आसमान सो रहा है । धरती सो रही है । आसमान सो रहा है ।
Nonsense ! ये सब क्या हो रहा है ? 

मैं हूँ यहाँ । तू है वहाँ । मैं हूँ यहाँ । तू है वहाँ ।
Lifebuoy है जहाँ । तन्दुरस्ती है वहाँ ।

आज आसमान में तारे ऐसे चमक रहे हैं ।आज आसमान में तारे ऐसे चमक रहे हैं ।
जैसे कल चमक रहे थे ।
कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है । कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है ।
कि क्यों कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है ?

मैंने तुमसे प्यार किया । तेरे बाप ने मुझे पीटा ।
मैंने तुमसे प्यार किया । तेरे बाप ने मुझे पीटा ।
तन की शक्ति मन की शक्ति Bournvita.

तुम आ गये हो । नूर आ गया है ।  चलो तीनों movie चलें ।

खुद को कर बुलन्द इतना कि । हिमालय की चोटी पर जा पहुँचे ।
और खुदा भी तुमसे पूछे । अरे भाई ! अब उतरेगा कैसे ?

जिसे दिल दिया वो दिल्ली चली गयी । जिसे प्यार किया  वो इटली चली गयी ।
दिल ने कहा खुद्कशी कर ले जालिम ।
बिजली को हाथ लगाया । तो बिजली चली गयी ।

हमने भी प्यार किया था जिन्दगी में बङे जोश के साथ ।
हमने भी प्यार किया था जिन्दगी में बङे जोश के साथ ।
अब हम प्यार करेंगे बङी सोच के साथ ।
क्योंकि उसे कल शाम को देखा किसी और के साथ ।

लाल दीवार पर चूने से लिखा था गालिब ने ।
लाल दीवार पर चूने से लिखा था गालिब ने ।
यहाँ लिखना मना है ।

काश कि तेरे चेहरे पर Chickenpox के दाग होते ।
काश कि तेरे चेहरे पर Chickenpox के दाग होते ।
चाँद तो तू है ही सितारे भी साथ होते ।

लङका बोला - काश इन हसीनों के बाप मर जाते ।
बहाना गम का होता हम इनके घर जाते ।
लङकी बोली - बेव अकूफ़ ये सोचना भी पाप होगा ।
किसी दिन तू भी किसी लङकी का बाप होगा ।
--ooo--
लङकी - चाँदनी चाँद से होती है । सितारों से नहीं ।
मोहब्बत एक से होती है । हजारों से नहीं ।
लङका - चाँदनी अगर चाँद से होगी । तो सितारों का क्या होगा ।
मोहब्बत अगर एक से होगी । तो हजारों का क्या होगा ।
--ooo--
बेवफ़ा सनम से तो सिगरेट अच्छी है ।
बेवफ़ा सनम से तो सिगरेट अच्छी है ।
दिल जलाती है । पर होठों से तो लगती है ।
to be remember - alcohol kills man / women slowly .so what who wants to die soon.
--ooo--

O God तू अपरम्पारा । करो बेडा पार हमारा ।
My Boat फंसी मझधारा । please give me some सहारा ।
I don’t have any किनारा । नहीं दिखता कोई नजारा ।
Please take Fastly ANy action मैं बिकता खड़े बजारा । 
O God तू अपरम्पारा । करो बेडा पार हमारा । 
please give me some power मैं बन जाऊं चाँद सितारा ।
मेरी विनती सुन लो GODA  मैं लेता नाम तुम्हारा ।
--ooo--
अर्ज है । खिडकी से देखा । तो बाहर कोई न था ।
अर्ज है । खिडकी से देखा । तो बाहर कोई न था ।
और जब । बाहर से से देखा । तो खिडकी पर कोई न था ।

Wednesday, 1 August 2012

about me Tanuja Thakur


about me - This blog is of Tanuja Thakur, founder of  Upasana Hindu Dharmotthan Sansthan whom we lovingly address as “DIDI” , but she humbly prefers to be called as gurusevika ( servitor of her Sadguru His Holiness Dr. Jayant Balaji Athavale and His Mission )
Born and brought up in Dhanbad district of Jharkhand she presently stays In Godda. She basically hails from a tiny village called Lukluki in Godda district of  Jharkhand state in Bahrat ( India ).
Her constant quest for wisdom and spiritual upbringing by her parents and grand parents made her a voracious reader of scriptures, works of saints and philosophers from childhood as a prelude to her spiritual practice from the age of 19. Her grandmother a saintly lady had forecasted her future immediately when she was born saying “this soul will be guiding force for dharm in the coming times for millions and will leave the worldly  life at a young

age like Saint Tulsidas and has come on earth for a specific mission “. She shares the same janmtithi ( birth date ) as of  saint Tulsidas .
Being a topper in acedemics, while persuading her masters from Delhi University, she aspired to become an IAS officer with the sole aim of serving the society and making the motherland a better place to live in. But the audience with her Shreeguru, became a turning point in her life and she decided to take up His noble and divine mission of spreading the science underlying vedic sanatan dharma nationwide and then worldwide. She dedicated her life for the same and for that she left her lucrative business as an executive search consultant, dropped her quest for higher studies, renounced the householders life to pursue the spiritual journey as a full time spiritual practioner under the guidance of Guru, at the age of 27.
Due to her evolved and gifted sixth sense since childhood and due to the grace of her Shreeguru She has specialized in Para science.
She has remarkable powers to heal the seekers suffering from negative energy problems due to the

grace of Param Pujya Gurudev and her undeterred, consistent Sadhana (spiritual practice) resulting in her much evolved sixth sense. Hundreds of seekers all around the globe have started getting miraculous spiritual experiences due to her spiritual prowess when they just even come in touch with ‘didi’ by meeting her personally, reading her articles, attending her spiritual discourse or talking to her on internet chat or on phone. She humbly gives all the credit of the anubhuti ( spiritual experince ) to  Param Pujya Dr. Athavale.  Following the mission of her Guru of establishing Hindu dharmarajya on mother earth, she has been travelling across Bharat and is soon going to start her world tour .
When someone asks her, the objectives of her life she humbly replies ” My Shreeguru’s wish is the command for me and His mission, the sole objective of my life, in fact I am  born only and only for His cause” !
She is a proud Bhartiya ( Indain ) and a staunch Hindu and  believes that human birth is very

precious so it should be spent in doing sadhana (spiritual practice) and also spreading the same.
She is proud to add that Vedic Sanatan Dharma teaches us to live a sattvik lifestyle which leads to a blissful living and finally leading to trigunateet (going beyond the three basic components of sattva, raj and tam) state so not only she practices it but also loves conveying this to everyone whenever she  gets a chance.
She had a worldwide network of more than 40,000 facebook friends and subscribers in whom she initially ignited the curiousness to know about Dharma and Spirituality which ultimately led thousands to start their spiritual journey. But Facebook has been continoulsy blocking her profiles for her fearless presentation of basic tenets of Hinduism in a firm and truthful way and hence that led to making of this blog. She uses all modern equipments for spreading spirituality, wears normal clothing but her persona reflects her spiritual prowess of a very evolved sanyasi(celibate). She is a best example of yogini in maya living a detached life like a lotus in a swamp.
She has been preaching dharma and spirituality since May 1997 as per her guru’s directives. 


Initially she had been doing that under the organisation established by her Shreeguru .
And recently she has started doing it independently under the society called UPASANA HINDU DHARMOTTHAN SANSTHAN ( Upasana Socieity for Vedic Awareness ), after she got the messege from the Almighty on December 26th, 2010. She has been communicating with the Almighty from the tender age of eight .
Her devotion to her shreeguru, her sharp and sattvik intellect to decipher the implied meaning of dharmshastras, her sweet and divine voice, her command over Hindi and English language, her convincing communication skill, her simplicity, her firmness to fight against the evildoers and malpractices, her evolved sixth, her amazing healing powers, her unconditional love for every embodied soul and her beautiful persona enchants all age groups and every individual !!
She is a living example of an ideal seeker, an ideal gurubhakt, an ideal bhartiya, an ideal vedic hindu and ideal bhartiya nari . We bow before the Almighty for sending her to this earth and her Shreeguru Parampujya Dr. Athavale for moulding her as an ideal to guide us ! Shree guruve namah !
Written and contributed by seekers of Upasana.
----------
Please feel free to email your queries / doubts to - sampark@vedicupasana.com
You can also visit : www.vedicupasana.com
Mobile - 09999861908
-----------
यस्य प्रसादादहमेव सर्वं मय्येव सर्वं परिकल्पितं च ।
इत्थं विजानामि सदात्मरूपं त्स्यांघ्रिपद्मं प्रणतोऽस्मि नित्यम ।

By whose grace that one realizes “I am everything, everything is superimposed in me, I offer my salutations and worship to my self-realised Satguru’s lotus feet.
Dear Spiritual Seekers
--------
We are glad to bring forward our Weekly Newsletter SOHAM at your doorstep through email, in which one can find the guidance unto the theoritical and practical aspect of spirituality.
This newsletter is available in English and Hindi .  If you wish to subscribe it kindly send your mail id to - soham@vedicupasana.com
We shall also cover some topics as : 
1 Suvachan ( Words of wisdom )
2 Basic principles of spiritual practice
3 Practical guidance on implementation of spirituality
4 Anubhuti ( spiritual experiences of seekers )
5 Spiritual healing to counter problems by

negative energies
6 Clarification of doubts
7 Efforts by seekers for spiritual progress
8 Obstacles during Dharma Yatra & Dharma Prasar
9 Mistakes by seekers.
10 GuruPoornima Special
11 Activities of Upasana
Regards - Tanuja Thakur
thanx with - http://www.tanujathakur.com/ ( click here )
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Follow by Email