Monday, 11 June 2012

तेरे घर में माँ बहन नहीं है क्या ?

जिन्दगी है तो ख्वाव है । ख्वाव है तो मंजिलें हैं । मंजिलें हैं तो फ़ासले हैं । फ़ासले हैं तो रास्ते हैं । रास्ते हैं तो मुश्किलें हैं । मुश्किलें हैं तो हौसला है । हौसला है तो विश्वास है । विश्वास है तो पैसा है । पैसा है तो शोहरत है । शोहरत है तो इज्जत है । इज्जत है तो लङकी है । लङकी है तो Tension है । Tension है तो Concern है । Concern है तो ये ख्याल है  । ख्याल है तो ख्वाव है । ख्वाव है तो Growth है । Growth है तो जिन्दगी है । जिन्दगी है तो ख्वाव है । मतलब दुनियां गोल गोल है । बस घूमने वाला चाहिये । किस विद्वान ने लिखी है । ऐसी ज्ञानवर्धक जीवन रामायण ? simple life high thinking को चरितार्थ करते हुये ऐसे उच्चतम विचार । प्रेरक उपदेश । कबीर और ओशो के बाद पहली बार ही पढने को मिले । खैर..किसी ने भी लिखे हों । हमें
साधु सन्तों के उपदेश ज्ञान से मतलब रखना चाहिये । आमों का मौसम है । सो कहावत है ना । आम खाने से मतलब रखो । पेङ गिनने से नहीं । इसलिये हमें भी पेङ गिनने का कोई मजा नहीं । बस हमें आम ही खाने हैं । तो चलिये । आम के आम । गुठलियों के दाम । पढिये ब्लाग  । लेकर प्रभु का नाम ।
This valentine all girls will get her boy friend, but all boys will not get his girl friend.
Please, save girl child for our future. यह कहना है - मनु श्रीवास्तव का । हिन्दी ब्लागर परिचय श्रंखला में । आज मिलिये । मनु श्रीवास्तव से । इनकी Location है - Jamshedpur, Jharkhand, India मनु श्रीवास्तव अपने Introduction में कहते हैं - लिखने में रूचि है । हास्य व्यंग्य विशेषता है । मनु श्रीवास्तव की विशेषता है - हास्य व्यंग्य । इसके कुछ उदाहरण देखिये - टीचर -  गयी भैंस पानी में । और डूबी नहीं । इस वाक्य से 1 और वाक्य बनाओ । स्टुडेंटस - अच्छा हुआ नहीं डूबी । डूब जाती । तो लोग कहते - बैल के बच्चे की माँ बनाने वाली थी । तो आत्म हत्या कर ली । स्टेशन पर ट्रेन रुकी । 1 यात्री ने खिड़की के पास बैठे हुए यात्री से पूछा - कौन सा स्टेशन है ? देखना क्या लिखा है ? एक ने बाहर देखा । और बोला - पेय जल । दुसरे यात्री भी बाहर देख रहा था । बोला - 
शौचालय । स्टेशन का नाम पूछने वाले ने अपना सर पीट लिया । और बोला - क्या बात कर रहे हो ? 1 स्टेशन का 2-2 नाम कैसे हो सकता है ? और इनके ब्लाग हैं - तरकश मंत्र चालीसा । इनके ब्लाग पर जाने हेतु ब्लाग नाम पर क्लिक करें ।
और आगे पढिये इनके हास्य व्यंग्य तरकश के कुछ नुकीले चुटीले तीर -
This valentine all girls will get her boyfriend, but all boys will not get his girlfriend.
Please, save girl child for our future.
महात्मा जी प्रवचन दे रहे थे - भक्तों ! सत्य क्या है ?
भईया जी उठे । और बहुत ही श्रद्धा से बोले - महात्मा जी ! राम नाम सत्य है ।
लोग झुण्ड में चिल्लाते जा रहे थे - होली है । होली है ।
भईया जी छत की मुंडेर से झांकते हुए बोले - हाँ है । हाँ हैं ।
झुण्ड में से किसी ने रंग का गुब्बारा मारा - बुरा न मानो । बुरा न मानो ।
भईया जी की वाइफ खिड़की का परदा सरकाते हुए बोली - अईसे कईसे मान लेंगे । अईसे कईसे मान लेंगे ।
ठाकुर - बाबा ! गब्बर ने मेरा हाथ काट दिया है । उससे कैसे बदला लूं ?
बाबा - ओह ! अच्छा बताओ । नित्य क्रिया करने के बाद की किसकी सहायता लेते हो ?
ठाकुर - राम लाल की ।
बाबा - तो आदमी बदल दो । काम हो जायेगा ।
अगले दिन ठाकुर को जय वीरू से संपर्क करते हुए देखा गया ।
एक लड़के ने लड़की को छेड़ा ।
लड़की गुस्से में बोली - तेरे घर में माँ बहन नहीं है क्या ?
लड़का - नहीं । मैं टेस्ट टयूब बेबी हूँ ।
स्टेशन पर ट्रेन रुकी । 1 यात्री ने खिड़की के पास बैठे हुए यात्री से पूछा - कौन सा स्टेशन है ? देखना क्या लिखा है ?
एक ने बाहर देखा । और बोला - पेय जल ।
दुसरे यात्री भी बाहर देख रहा था । बोला - शौचालय ।
स्टेशन का नाम पूछने वाले ने अपना सर पीट लिया । और बोला - क्या बात कर रहे हो ? 1 स्टेशन का 2-2 नाम कैसे हो सकता है ?
Humpty dumpty sat on Deewar . Humpty गिर गया फ़ूट गया कपार ।
Doctor बोला - पहले लिखाओ कम्प्लेंट । Supreme court बोले - पहले treatment फ़िर explain
टीचर -  गयी भैंस पानी में । और डूबी नहीं । इस वाक्य से 1 और वाक्य बनाओ ।
स्टुडेंटस - अच्छा हुआ नहीं डूबी । डूब जाती । तो लोग कहते - बैल के बच्चे की माँ बनने वाली थी । तो आत्म हत्या कर ली ।
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Follow by Email