Friday, 7 March 2014

सिरदर्द में राहत

अजवाइन रुचिकारक एवं पाचक होती है । पेट संबंधी अनेक रोगों को दूर करने में सहायक होती है । जैसे - वायुविकार, कृमि, अपच, कब्ज आदि । अजवाइन में स्वास्थ्य सौंदर्य, सुगंध तथा ऊर्जा प्रदान करने वाले तत्व होते हैं । यह बहुत ही उपयोगी होती है ।
1 सरसों के तेल में अजवायन डालकर अच्छी तरह गरम करें । इससे जोड़ों की मालिश करने पर जोड़ों के दर्द में आराम होता है ।
2 अजवाइन मोटापे को कम करने में मदद करती है । अतः रात्रि में 1 चम्मच अजवायन 1 गिलास पानी में भिगोएं । सुबह छानकर उस पानी में शहद डालकर पीने पर लाभ होता है ।
3 मसूड़ों में सूजन होने पर अजवाइन के तेल की कुछ बूंदें पानी में मिलाकर कुल्ला करने से सूजन कम होती है ।
4 अजवाइन, काला नमक, सौंठ तीनों को पीसकर चूर्ण बना लें । भोजन के बाद फांकने पर अजीर्ण, अशुद्ध वायु का बनना व ऊपर चढ़ना बंद हो जाएगा ।
5 आंतों में कीड़े होने पर अजवाइन के साथ काले नमक का सेवन करने पर काफी लाभ होता है ।
***********
घरेलू नुस्खों से दूर करें दर्द - जिस तरह का जीवन हम जी रहे हैं । उसमें सिर दर्द होना 1 आम बात है । लेकिन यह दर्द हमारी दिनचर्या में शामिल हो जाए । तो हमारे लिए बहुत कष्टदायी हो जाता है । दर्द से छुटकारा पाने के लिए हम पेन किलर घरेलू उपाय अपनाकर इसे दूर कर सकते हैं । इन घरेलू उपायों के कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होते ।
1 अदरक - अदरक 1 दर्द निवारक दवा के रूप में भी काम करती है । यदि सिर दर्द हो रहा हो । तो सूखी अदरक को पानी के साथ पीसकर उसका पेस्ट बना लें । और इसे अपने माथे पर लगाएं । इसे लगाने पर हल्की जलन जरूर होगी । लेकीन यह सिरदर्द दूर करने में मददगार होती है ।
2 सोडा - पेट में दर्द होने पर कप पानी में 1 चुटकी खाने वाला सोडा डालकर पीने से पेट दर्द में राहत मिलती है ।
स्त्रियो के मासिक धर्म के समय पेट के नीचे होने वाले दर्द को दूर करने मे खाने वाला सोडा पानी में मिलाकर पीने से दर्द दूर होता है । एसिडिटी होने पर 1 चुटकी सोडा, आधा चम्मच भुना और पिसा हुआ जीरा, 8 बूंदे नींबू का रस और स्वादानुसार नमक पानी में मिलाकर पीने से एसिडिटी में राहत मिलती है ।
3 अजवायन - सिर दर्द होने पर 1 चम्मच अजवायन को भूनकर
साफ सूती कपडे में बांधकर नाक के पास लगाकर गहरी सांस लेने से सिर दर्द में राहत मिलती है । ये प्रक्रिया तब तक दोहराएं । जब तक आपका सिर दर्द ठीक नहीं हो जाता । पेट दर्द को दूर करने में भी अजवायन सहायक होती है । पेट दर्द होने पर आधा चम्मच
अजवायन को पानी के साथ फांकने से पेट दर्द में राहत मिलती है ।
4 बर्फ - सिर दर्द में बर्फ की सिंकाई करना बहुत फायदेमंद होता है । इसके अलावा स्पॉन्डिलाइटिस में भी बर्फ की सिकाई लाभदायक होती है । गर्दन में दर्द होने पर भी बर्फ की सिकाई लाभदायक होती है ।
5 हल्दी - हल्दी कीटाणुनाशक होती है । इसमें एंटीसेप्टिक, एंटीबायोटिक और दर्द निवारक तत्व पाए गए हैं । ये तत्व चोट के दर्द और सूजन को कम करने में सहायक होते हैं । घाव पर हल्दी का लेप लगाने से वह ठीक हो जाता है । चोट लगने पर दूध में हल्दी डालकर पीने से दर्द में राहत मिलती है । 1 चम्मच हल्दी में आधा चम्मच काला गर्म पानी के साथ फांकने से पेट दर्द व गैस में राहत मिलती है ।
6 तुलसी के पत्ते - तुलसी में बहुत सारे औषधीय तत्व पाए जाते हैं । तुलसी की पत्तियों को पीसकर चंदन पाउडर में मिलाकर पेस्ट बना लें । दर्द होने पर प्रभावित जगह पर उस लेप को लगाने से दर्द में राहत मिलेगी । 1 चम्मच तुलसी के पत्तों का रस शहद में मिलाकर हल्का गुनगुना करके खाने से गले की खराश और दर्द दूर हो जाता है । खांसी में भी तुलसी का रस काफी फायदेमंद होता है ।
7 मेथी - 1 चम्मच मेथीदाना में चुटकी भर पिसी हुई हींग मिलाकर पानी के साथ फांकने से पेट दर्द में आराम मिलता है । मेथी डायबिटीज में भी लाभदायक होती है । मेथी के लड्डू खाने से जोडों के दर्द में लाभ मिलता है ।
8 हींग - हींग दर्द निवारक और पित्तवर्द्धक होती है । छाती और पेट दर्द में हींग का सेवन लाभकारी होता है । छोटे बच्चों के पेट में दर्द होने पर हींग को पानी में घोलकर पकाने और उसे बच्चो की नाभि के चारो ओर उसका लेप करने से दर्द में राहत मिलती है ।
9 सेब - सुबह खाली पेट प्रतिदिन 1 सेब खाने से सिर दर्द की समस्या से छुटकारा मिलता है । चिकित्सकों का मानना है कि सेब का नियमित सेवन करने से रोग नहीं घेरते ।
10 करेला - करेले का रस पीने से पित्त में लाभ होता है । जोडों के
दर्द में करेले का रस लगाने से काफी राहत मिलती है ।
***********
आयुर्वेदिक चिकित्सा किताबों के लिंक्स, राजीव दीक्षित की PDF पुस्तकें । स्वदेशी चिकित्सा 1 - दिनचर्या, ऋतुचर्या के आधार पर 3.79 MB

स्वदेशी चिकित्सा 2 - बीमारी ठीक करने के आयुर्वेदिक नुस्ख़े 3.39 MB 

स्वदेशी चिकित्सा 3 - बीमारी ठीक करने के आयुर्वेदिक नुस्ख़े 3.44 MB 

स्वदेशी चिकित्सा 4 - गंभीर रोगों की घरेलू चिकित्सा 3.70 MB 

गौ पंचगव्य चिकित्सा 3.94 MB

गौ - गौवंश पर आधारित स्वदेशी कृषि 3.61 MB

आपका स्वास्थ्य आपके हाथ 3.23 MB

स्वावलंबी और अहिंसक उपचार 3.12 MB

Refined तेल का भ्रम  1.01 MB

Source -

दैनिक जीवन में काम आने वाला आयुर्वेद आसान भाषा में MP3 files में 919 MB 


आरोग्य आपका by Mr. Chanchal Mal Chordia   165.81 MB 

चिकित्सा पद्धतियां
Source - 

चरक संहिता


Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Follow by Email