Tuesday, 24 April 2012

अशोक कुमार चियर्स विद प्रेत कन्या

हिन्दी ब्लागरों में भूत प्रेत की कहानियाँ लिखने वाले बहुत ही कम हैं । क्योंकि बीङू ये जिगर वाले लोगों का काम है । कमजोर लोगों का नहीं । संसार में भूत प्रेत के न मानने वाले भी बहुत है । और मानने वाले भी बहुत हैं । पढे लिखे भी मानते हैं । और अनपढ भी कहीं नहीं मानते । इसलिये प्रेतत्व सिद्धांत का अशिक्षा से शायद कोई सम्बन्ध नहीं । जो भी हो । मुझे भूतऽऽ शब्द कहते ही डर लगने लगता है । फ़िर भूत प्रेत की कहानियाँ भला क्या लिखूँगा । लेकिन सभी लोग मेरे जैसे डरपोक भी नहीं होते । इसलिये ब्लागर्स परिचय श्रंखला में आज मिलिये । ऐसे  ही एक बहादुर इंसान से ।
बिहार के छोटे जी के ब्लाग पर रात में मत

जाना । अकेले भी मत जाना ।  अगर डरपोक हैं । तब भी मत जाना । क्योंकि इनके ब्लाग पर लिखी हैं - भूत प्रेत की कहानियाँ । इसलिये संभल कर जाना । जी हाँ ! इनका शुभ नाम है - छोटे । और इनकी Industry है - Real Estate और इनका Occupation है - निजी । और इनकी Location है - बक्सर । बिहार India छोटे जी अपने Introduction में कहते हैं -बिहार में जन्मा हूँ । यूपी में पला हूँ । अभी बिहार में हूँ । लेकिन कब तक ? पता नहीं । मैं तरह तरह की कहानियां गढ़ता और सुनता सुनाता रहा हूँ । बच्चे मुझसे भूतों की कहानियां बड़े चाव से सुनते हैं । और इनका Interests है - पढना लिखना । घूमना फिरना । और इनकी Favourite Films है - गाइड । काला पानी । असली नकली । और इनका Favourite Music है - लोक संगीत । और इनकी Favourite Books हैं - ड्राकुला । गाड़ फादर । चंद्रकांता संतति । भूतनाथ । रोहतास मठ । और इनके ब्लाग हैं - रहस्य रोमांच ( भूत प्रेत ) और - At a glance इनके ब्लाग पर जाने हेतु ब्लाग नाम पर क्लिक करें ।


- और आगे पढिये । छोटे जी की भूत प्रेत से सम्बंधित 2 रचनायें संस्मरण के  रूप में ।
अशोक कुमार चियर्स विद प्रेत कन्या
अपने ज़माने के चर्चित फिल्म अभिनेता दादा मुनी यानी अशोक कुमार का भी भूत प्रेत से पाला  पड़ा था । उन्होंने उस ज़माने की एक पत्रिका में  कुछ आप बीती घटनाओं के बारे में लिखा था । उनमें से एक घटना यूँ हुई कि - एक बार शूटिंग के बाद वे देर रात अपनी कार से घर लौट रहे थे । जोरों की बारिश हो रही थी । रह रहकर बिजली भी कड़क रही थी । गाड़ी चलने में उन्हें परेशानी हो रही थी । उन्होंने सोचा कि क्यों नहीं रास्ते में अपने दोस्त के गेस्ट हाउस में रुक जाएँ । और बारिश रुकने के बाद आगे बढ़ें । उन्होंने कार को गेस्ट हाउस की तरफ मोड़ लिया । गाड़ी पार्क कर वे अंदर एक कमरे में चले गए । उन्होंने केयर टेकर से कहकर खिड़की के पास टेबल कुर्सी लगवा ली । एक जग पानी और गिलास रखवा लिया । व्हिस्की की एक बोतल निकाली । और पैग बनाकर सिप करने लगे । तभी तेज़ बारिश के बीच किसी ने दरवाज़ा खटखटाया । दरवाज़ा खोला । तो उन्हें वहाँ एक खूबसूरत सी लड़की पानी से भीगी हुई खड़ी मिली । उसने बताया कि वह लिफ्ट लेकर एक ट्रक पर मुंबई जा रही थी । बारिश के कारण ट्रक वाला आगे नहीं जा रहा है । बारिश बंद होने के बाद जायेगा । मैंने खिड़की के पास आपको बैठे देखा । तो चली आई । बारिश रुकने तक आप शरण दे दें तो ।


- कोई बात नहीं अंदर आ जाओ । दादा मुनी ने उसे अंदर आने दिया । फिर अपनी जगह बैठकर व्हिस्की पीने लगे । लड़की भी एक कुर्सी खींच कर उनके पास ही बैठ गयी । वह टकटकी लगाकर व्हिस्की के गिलास की और देखने लगी ।
- पियोगी ? दादा मुनी ने पूछा ।
उसने सहमति से सर हिला दिया । तो दादा मुनी ने एक नया पैग बनाकर उसे दे दिया ।
बारिश रुकने पर वह इजाजत लेकर बाहर चली गयी । दादा मुनी ने उसे ट्रक की तरफ जाते हुए देखा । ट्रक के पास पहुँचने पर ट्रक ड्राइवर से उसे कुछ बातें करते हुए देखा । फिर उन्होंने देखा कि ट्रक वाले ने अचानक चाकू निकाला । और लड़की के सीने में घोंप दिया । लड़की सड़क पर गिरकर छटपटाने लगी । और ट्रक वाला ट्रक लेकर भाग निकला । दादा मुनी दौड़ते हुए वहाँ गए । तो देखा । लड़की मर चुकी है । वे अपनी कार से तुरंत थाना पहुंचे । और थानेदार को घटना की जानकारी दी । थानेदार ने कहा कि - वह उनका बहुत बड़ा फैन है । दादा मुनी ने उसे घटनास्थल पर चलने को कहा । तभी एक सिपाही बोला कि - वहाँ कोई क़त्ल नहीं हुआ है । जिस जगह की बात हो रही है । वहाँ कई लोगों ने इस घटना की रिपोर्ट की है । लेकिन वहाँ कुछ नहीं मिलता । यह सब प्रेत लीला है ।
दादा मुनी के आग्रह करने पर सिपाही और दरोगा उनके साथ गए । लेकिन दादा मुनी यह देखकर दंग रह गए कि - वहाँ न कोई लाश थी । न खून के निशान । उन्हें मान लेना पड़ा कि - सिपाही सच कह रहा था ।

सिपाही ने कहा कि - बहुत साल पहले इस जगह पर सही में एक लड़की का क़त्ल किसी ट्रक वाले ने किया था । उसकी आत्मा आज भी भटकती है । और इसी तरह बरसात के मौसम में वह दिखाई पड़ती है ।
प्रेत सुन्दरी
रात के दो बज रहे थे । जोरों की बारिश हो रही थी । घना अँधेरा था । बादल रह रह कर गरज रहे थे । थोड़ी थोड़ी देर पर बिजली चमकती । तो आस पास की चीजें दिखाई पड़ती थीं । अन्यथा हाथ को हाथ दिखना भी मुश्किल लग रहा था । झारखंड के घाट शिला स्टेशन के बाहर रामदीन अपना ऑटो लगाये सवारी का इंतजार कर रहा था । इस मौसम में सवारी मिलने की उम्मीद बहुत कम थी । फिर भी हो सकता था । कुछ देर 


बाद आने वाली ट्रेन से कोई सवारी आ जाये । करीब एक घंटे बाद ट्रेन आई । थोड़ी देर बाद बिजली चमकने पर एक 18 -19 वर्ष की मॉडर्न सी लड़की कंधे पर एक बैग लटकाए बाहर निकलती दिखी । वह सीधे उसके ऑटो के पास पहुंची । और मुसाबनी चलने को कहा । रामदीन ने कहा कि - रात का वक़्त है । इसलिए वहां चलने पर पांच सौ रूपये लूँगा । नहीं तो दो चार घंटे इंतज़ार कर लीजिये । सुबह सौ रुपये में ले चलूँगा । लड़की बोली - अभी दो सौ रुपये रखो । बाकी वहां पहुँच कर दूँगी । और ऑटो पर बैठ गयी ।
रामदीन ने ऑटो बढ़ा दिया । करीब आधा घंटे बाद वह गंतव्य तक पहुंचा । एक मकान के बाहर लड़की ने गाड़ी रुकवाई । और घर से पैसे लेने की बात कहकर अन्दर चली गयी ।
काफी देर तक वह नहीं लौटी । तो रामदीन अकेले बैठे बैठे परेशान हो गया । उसने घर का दरवाजा खटखटाया । काफी देर बाद एक बूढ़े ने आँखे मलते हुए दरवाजा खोला । उसने पूछा - कौन हो तुम ? और इतनी रात को किसलिए आये हो ?
रामदीन बोला - जो मैम साहब साहब थोड़ी देर पहले आई हैं । उन्होंने मेरा पूरा भाडा नहीं दिया है ।
बूढ़े ने आश्चर्य से उसकी और देखा । बोला - यहाँ तो कोई मैम साहब नहीं रहतीं । मैं अकेला रहता हूँ ।
रामदीन की नज़र एक फोटो पर पड़ी । उसने कहा - यही मेम साहब तो आई थीं । उन्हें स्टेशन से लेकर आया हूँ ।

बूढ़े ने उसे आश्चर्य से देखा । फिर बोला - इस लड़की को मरे आठ साल हो गए । देखो फोटो पर माला डाला हुआ है । ये मेरी पोती थी । ये कैसे आ सकती है ?
रामदीन के होश उड़ गए । वह चुपचाप अपने ऑटो के पास  पहुंचा । उसने देखा कि सीट पर सौ सौ के तीन नोट रखे थे  । उसने नोट जेब में रखा । और वहां से बेतहाशा भागा । उस दिन से उसने रात में ऑटो चलाना छोड़ दिया ।
- सभी जानकारी छोटे जी के ब्लाग रहस्य रोमांच से साभार । ब्लाग पर जाने हेतु यहीं क्लिक करें ।
all photo image with thanx Patrizia's blog .Patrizia is english blogger .click here for Patrizia's blog

आवश्यक सूचना

इस ब्लाग में जनहितार्थ बहुत सामग्री अन्य बेवपेज से भी प्रकाशित की गयी है, जो अक्सर फ़ेसबुक जैसी सोशल साइट पर साझा हुयी हो । अतः अक्सर मूल लेखक का नाम या लिंक कभी पता नहीं होता । ऐसे में किसी को कोई आपत्ति हो तो कृपया सूचित करें । उचित कार्यवाही कर दी जायेगी ।

Follow by Email