Sunday, 6 March 2011

दिव्या तुम बहुत complicated हो ।

मेरी मित्र राधिका । जो वर्षों से मुझे जानती है । ने कहा । दिव्या तुम बहुत complicated हो ।
मैंने सादगी से कहा । हाँ हूँ । तुम्हारे लिए । क्यूंकि जब प्रश्न हल नहीं हो पाता । तो कठिन कहलाता है । जब अंगूर अप्राप्य हो जाता है । तो खट्टा कहलाता है । और जब कोई किसी की सादगी को समझ पाने में असफल रहता है । तो उसे complicated कहता है ।
राधिका कौन है ?
राधिका कोई एक चरित्र नहीं । बल्कि एक symbolic पात्र है । मेरा किसी से भी जो संवाद होता है । वो राधिका के नाम से लिखती हूँ । और एक ही लेख में बहुत से भिन्नभिन्न व्यक्तियों से हुआ संवाद राधिका के नाम से ही कहा गया है । इसलिए कोई भी स्वयँ को राधिका न समझे । हाँ इसे पढने के बाद आपको अपनी झलक कहीं कहीं राधिका में अवश्य मिलेगी ।
दिव्या कौन है ?
दिव्या एक स्त्री है । जो स्वयँ को सुधारना चाहती है । और अपने साथ साथ पूरे समाज को सुधारना चाहती है । वो एक ऐसी दुनिया की कल्पना करती है । जहाँ स्त्री पुरुष समान अधिकार और सम्मान के साथ जिए । एक समाज जो भृष्टाचार से मुक्त हो । एक परिवेश जिसमें सभी संवेदनशील हो । द्वेषमुक्त हों । तथा अपनापन हो ।
वो एक मुखर स्वीकारात्मक व्यक्तित्व की है । जो अपने सामने आई समस्याओं को no-nonsense तरीके से सुलझाने का प्रयास करती है । वो एक सामान्य व्यक्ति की तरह कुछ कमजोरियों और कुछ अच्छाइयों का मिश्रण है । जो अपने मन के द्वन्द को स्वयँ तक ही सीमित रखती है । और उनके हल ढूँढने के बाद समाजोपयोगी रूप में प्रस्तुत करती है । उस सहानुभूति पसंद नहीं है । क्यूंकि वो उसे कमज़ोर करती है । और कमज़ोर व्यक्तित्व समाजोपयोगी नहीं रह जाते । वो अपने चारों तरफ एक कठोर आवरण बुनकर रखती है । जो अभेद्य कवच की तरह उसकी रक्षा करते हैं । वो अपने मित्रों के साथ कठोरता से straight forward तरीके से पेश आती है । क्यूंकि वो उन्हें भी कमज़ोर नहीं पड़ने देना चाहती । उन्हें strong देखना चाहती है । मित्रों की strength दिव्या की भी ताकत है ।
दिव्या अन्दर से एक कोमल और भावुक व्यक्तित्व की धनी है । लेकिन अपनी भावनाओं का प्रदर्शन नहीं करती । क्यूंकि उसे लगता है कि इस विनाशशील सृष्टि में भावनाओं का कदृ करने वाले विरले ही हैं । कोई चार दिन आपको समझेगा । लेकिन फिर मानवीय दुर्गुण । जैसे पूर्वाग्रह । ईर्ष्या । अहंकार । द्वेष आदि उस पर हावी हो जायेंगे । जो परस्पर सम्बन्धों में दूरी लाते हैं । इसलिए बेहतर है कि हर किसी के साथ एक निश्चित दूरी पर ही रहा जाए ।
आप अच्छे थे पहले अजनबी की तरह । मुझसे मिलते तो थे अपनों की तरह ।
अपना बनकर तो आप बहुत दूर हो गए । अब कुशलक्षेम भी होती है गैरों की तरह ।
एक बार राधिका ने मुझसे कहा । मैंने मित्रों से शर्त लगाई है । तुम्हारी ब्लागिंग छह महीने से ज्यादा नहीं चलेगी । मैंने कहा । हर चीज़ का अंत तयशुदा है । मैं हारूंगी । तो तुम्हारी जीत का जश्न मनाऊँगी ।
कल राधिका ने मुझसे पूछा । तुम ब्लॉगिंग क्यूँ करती हो ? पैसा भी नहीं मिलता । और समय की बर्बादी करती हो । तुम जो कर रही हो । उसे समझने वाले भी बहुत कम हैं ।
मैंने कहा । आज तक समाज ने मुझे बहुत कुछ दिया है । अब मेरी बारी है लौटाने की । मेरा भी छोटा सा योगदान होना चाहिए । उस समाज को जिसमें मैं रहती हूँ । social service
मेरा समय किसी सकारात्मक जगह उपयोग हो । इसलिए लिखती हूँ ।
लिखने के बहाने पढ़ती भी हूँ । जिससे मेरा खुद का ज्ञानार्जन होता है ।
किसी विषय पर दूसरों से सीखती हूँ । और कुछ विषयों पर लगता है । मैं योगदान कर सकती हूँ । कोई भी अपने आप में सम्पूर्ण नहीं है ।
संसार में हमारा जन्म किसी विशेष प्रयोजन से होता है । उसे पहचानना है । और उसे अंजाम देना है । हर कार्य का पुरस्कार धन नहीं होता । कुछ कार्य अपने आत्मिक संतोष के लिए निस्वार्थ भाव से भी किया जाता है ।
ब्लागिंग से बहुत कुछ सीखा है । इसके कारण मेरे मस्तिष्क के अन्दर नया वसंत आ गया है । रंग बिरंगे फूलों की तरह अनेक सतरंगी विचार आते हैं । और उस पर पाठकों के विचार पूरे उपवन की सुन्दरता को द्विगुणित कर देते हैं ।
लोगों का व्यक्तित्व पढना मेरा शौक भी है । जिसके लिए ब्लागिंग एक सार्थक माध्यम है ।
जीवन एक सफ़र है । जिसमें मुसाफिर मिलते हैं । और एक मकाम आने पर बिछड़ जाते हैं । कारवां बनता और बिखरता है । इसी प्रक्रिया में मोहमाया से गुज़रते हुए एक दिन ये प्राण उस अनंत यात्रा पर निकल जायेंगे ।
एक बार मैंने राधिका से पूछा । तुम मुझे पत्र लिखती हो । मेरे लेखों का इंतज़ार करती हो । शिद्दत से पढ़ती हो । मुझसे कहती हो । मेरा सम्मान भी करती हो । और प्यार भी करती हो । फिर क्यूँ कतराती हो । अपने विचार रखने से मेरे लेखों पर ? राधिका ने जवाब नहीं दिया ।
मैंने राधिका से कहा । Beauty lies in the eyes of beholder । एक बार प्यार से तो देखो । सादगी भी दिखेगी ।

साभार । डा. दिव्या जी के ब्लाग " जील " से । आपके उत्तम विचारों के लिये धन्यवाद दिव्या जी

आवश्यक सूचना

इस ब्लाग में जनहितार्थ बहुत सामग्री अन्य बेवपेज से भी प्रकाशित की गयी है, जो अक्सर फ़ेसबुक जैसी सोशल साइट पर साझा हुयी हो । अतः अक्सर मूल लेखक का नाम या लिंक कभी पता नहीं होता । ऐसे में किसी को कोई आपत्ति हो तो कृपया सूचित करें । उचित कार्यवाही कर दी जायेगी ।

Follow by Email