Tuesday, 1 March 2011

ब्लॉग गुटबाजी का निदान

अपने पिछले लेख और उस पर आयी प्रतिक्रियाओं से चर्चा आगे बढाते हुए एक नज़र जो विचार प्रस्तुत हुये ।
1 सिर्फ कमेन्ट पाने या खुद को बौद्धिक रूप से संपन्न दिखाने जैसे कारणों या इच्छाओं की पूर्ति के लिए के लिए लेखन का ये खेल खेला जाता है ।
2 गुटबाजी की चर्चा से लगता है कि कहीं न कहीं आग तो है । वर्ना धुँआ नहीं उठता ।
3 गुट है । और उसे बनाया और बढाया जाता है । बहुत सारी और भी बाते तथ्य हैं । पर उन पर ज्यादा बहस करना ही बेकार है ।
4 जब परस्पर विरोधी विचारधाराएँ रंजिश में बदल जाती हैं ।
5 प्रचलित धारा से अलग कुछ कहने वाला कुपाच्य हो जाता हैं ।
6 अब अनुभव में आ रहा है कि लोगों को परामर्श रुचते नहीं ।

मेरी पूर्व वर्णित स्वभाविक ग्रुप संकल्पना । जो कि सही अर्थों में गुटनिरपेक्षता ही है । जिसका विचार, विषय और विधा अनुसार वर्गीकरण होना निश्चित है ।
उसके अतिरिक्त जो मात्र विवादों के समय गुट अस्तित्व में आते हैं । और पुनः आपस में ही विवाद कर बिखर भी जाते हैं । जिसका आधार मात्र अहं तुष्टि होता है । हिन्दी ब्लॉग जगत को ऐसे गुटों से कोई खतरा नहीं है । प्रतिस्पर्धा की दौड में ऐसी कई विधीओं का प्रकट होना । और अस्त होना विकास में संभावित ही है । इसे अपरिपक्वता से परिपक्वता की संधि के रूप में देखना ही ठीक है ।
मात्र तुच्छ स्वार्थों भरी मानसिकता से गुटबंदी का खेल खेलने वाले ब्लॉगर । इन्ही प्रयासो में विवादगृस्त होकर, अन्तत: महत्व खो देंगे । वे बस इस सूत्र पर कार्य कर रहे है कि बदनाम हुए तो क्या हुआ नाम तो हुआ । कदाचित वे अपने ब्लॉग को कथित प्रसिद्धि दे पाने में सफल हों । पर व्यक्तित्व से दरिद्र हो जाएंगे । उन्हें नहीं पता । उनके सदचरित्र व्यक्तित्व में ही ब्लॉग की सफलता निहित है ।

एक प्राकृतिक नियम है । जो कमजोर होता है । स्वतः पिछड जाता है । ( कमजोर से यहां आशय विचार दरिद्रता से है । ) और सार्वभौमिक इकोनोमिक नियम है । जैसी मांग वैसी पूर्ति । अन्ततः तो उच्च वैचारिक सार्थक मांगे उठनी ही है । अतः जो सार्थक गुणवत्तायुक्त पूर्ति करेंगे । वही टिकेंगे । भ्रांत और निकृष्ट पूर्ति का मार्केट खत्म होना अवश्यंभावी है ।
वे धार्मिक विचारधाराएँ जिनमें दर्शन आधारित विवेचन को कोई स्थान नहीं । जो कार्य कारण के विचार मंथन को कुन्द कर देती हैं । मानवीय सोच को विचार मंथन के अवसर प्रदान नहीं करती । ऐसी धार्मिक विचारधाराएं संप्रदाय प्रचार की दुकानें मात्र हैं । जो फ़ुटपाथ पर लगी आने जाने वालों को अपनी दुकान में लाने हेतु चिल्ला कर प्रलोभन देते हुए आकर्षित करती रहती हैं । इनके विवाद और गुट फ़ुटपाथ स्तर के फेरियों समान होते हैं । अतः इनसे भी हिन्दी ब्लॉग जगत को कोई हानि नहीं । ज्ञानचर्चा के लिये धर्मदर्शन आधारित अन्य क्षेत्र विकसित हो सकते हैं ।
विचार परिमार्जन के परामर्श जिन्हें पथ्य नहीं । ऐसे ब्लॉगर के विचार स्थिर होकर सडन को प्राप्त होंगे । कहते हैं । जो झुकते नहीं कट जाते है । जो विनय से नया ज्ञान प्राप्त नहीं करते । विनम्रता से उस ज्ञान का परिशीलन नहीं करते । अन्तत: उनके अंतर्मन से ज्ञान नष्ट हो जाता है । और ज्ञान का दम्भ भी उनकी लुटिया डुबोने का ही कार्य करता है । इसलिये चलें ? सार्थक ब्लॉग लेखन से ब्लॉग समृद्धि की ओर ।
साभार श्री हँसराज जी के सुज्ञ ब्लाग से । आपका बेहद धन्यवाद सुज्ञ जी
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Follow by Email