Sunday, 13 March 2011

A TRIP TO ईश्वरलोक - कपिल गर्ग ( परिचय पोस्ट )

I am an atheist , pagan and just believe in myself nothing else
**** एक युवा ब्लागर के रूप में कपिल जी मुझे काफ़ी पसन्द है । हालांकि ये एकदम विपरीत बात है । कपिल जी ईश्वरीय सत्ता को नहीं मानते । जबकि मैं तो संतमत का साधक या साधु ही हूँ । फ़िर भी कपिल जी के भोले और निष्कपट विचार मुझे काफ़ी अच्छे लगते हैं । आज काफ़ी दिनों बाद कपिल जी के ब्लाग पर गया । तो देखा कि उन्होंने काफ़ी दिनों से कुछ नया नहीं लिखा था । खैर..चलिये । उनकी एक पुरानी रचना । और उनका परिचय लिंक सहित..राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ ।

A TRIP TO ईश्वरलोक
" बेटा ध्यान से जाना । " जैसे ही ट्रेन चली मम्मी ने हाथ हिलाते हुए कहा ।
खिड़की से मैंने भी मम्मी को bye कहा । और थोड़ी ही देर में ट्रेन ने अपनी रफ़्तार पकड़ ली । छुट्टी के दिन थे । तो मैं अपनी दीदी से मिलने दिल्ली जा रहा था ।

अगले स्टेशन पर ट्रेन रुकी । तो एक बाबा मेरी सामने वाली सीट पर बैठे । उनके लम्बे सफेद बाल । लम्बी सफेद दाढ़ी । माथे पर तिलक लगा हुआ था । शरीर पर उन्होंने सिर्फ एक धोती और जनेऊ पहना हुआ था । सामान के नाम पर उनके पास सिर्फ एक पोटली और हाथ में रामायण पकड़ी हुई थी । यानी के पूरे साधू-संतों वाली वेशभूषा ।

मैं काफी बातूनी और जिज्ञासु किस्म का इंसान हूँ । तो सोच रहा था कि उंनसे बातचीत कैसे शुरू करूँ ?
फ़िर चुप्पी तोड़ते हुए मैंने कहा , " बाबा मन में एक प्रश्न घूम रहा है । आज्ञा हो तो पूछ सकता हूँ ? "
" O sure..anytime ! " बाबा ने मुस्कुराते हुए कहा ।


उनके मुख से अंग्रेजी सुनकर थोड़ा अचंभित जरुर हुआ । पर यह सोच करके शायद वो थोडा पढ़े-लिखे हो । मैंने अपना प्रश्न पूछा , " बाबा एक तो आप कहते हो कि भगवान हर जगह है । फिर आप भगवान की पूजा करने मंदिर ही क्यों जाते हो ?
" हा हा हा । " बाबा पहले तो थोड़ा हँसे । फिर थोड़ा सोचकर उन्होंने कहा , " इस प्रश्न का जवाब मैं एक प्र्श्न के रूप में ही देना चाहूँगा । "
" जैसी आपकी इच्छा । " मैंने कहा ।
" Air is everywhere so why you use fan to feel it ? " बाबा ने पूछा ।
इस प्रश्न ने मुझे काफी असमंजस की स्थिति में डाल दिया ।
" बाबा मैं आज तक समझ नहीं पाया कि भगवान सच में है भी कि नहीं ? I'm not sure about the existence of God । इसलिए मैंने आपसे वो प्रश्न पूछा था । " मैंने कहा ।
" बेटा भगवान को तो मैं भी नहीं मानता । I'm an atheist (नास्तिक ) । " बाबा ने जवाब दिया ।
"तो फिर यह वेशभूषा ? यह रामायण ? यह सब क्यों ?" मैंने उत्सुकतावश पूछा ।
" There's a reason behind all this " उन्होंने कहा ।
" क्या reason है sir ? " पता नहीं मैं क्यों उन्हें बाबा कि जगह sir कहने लगा ।

थोड़ा सोचने के बाद बाबा ने कहा , " पहले मैं बताता हूँ कि हम मंदिर क्यों जाते हैं । suppose मैं आपको एक अच्छी सी story सुनाता हूँ । जिसका बहुत ही अच्छा moral है । यानी कि उससे बहुत अच्छी शिक्षा मिलती है । पर वो story तो आप हफ्ता-दस दिन में भूल जाओगे । "
मैंने हाँ में सिर हिलाया ।
" लेकिन अगर मैं कुछ ऐसा करूँ । जिससे वो story आपको time to time याद आती रहे ? तो वैसे ही रामायण महाभारत काफी अच्छी stories है । जिससे कि काफी अच्छी शिक्षा मिलती है । जैसे कि धर्म के लिए लड़ना । सत्य की असत्य पर जीत । गीता का ज्ञान आदि । तो यह स्टोरी लोगों को याद कराने के लिए रामायण, महाभारत के characters ( राम , लक्ष्मण ) जगह-जगह स्थापित किये गये । जिनको देखकर हमे वो story याद आ जाये । और story में छुपी शिक्षा को हम न भूलें । और उन बातों को अपने जीवन में implement करके अच्छे इंसान बने । " बाबा ने कहा ।

बाबा कि बातें सुनने में तो काफी impressive लगी । पूछने पर पता चला कि वो pune university में physics के professor हैं ।

उत्सुकतावश मैंने एक और प्रश्न पूछा , " अच्छा sir मंदिर तो ठीक है । लेकिन हम ये हवन वगैरह क्यों करते हैं ? उसमे तो इन मूर्तियों का कोई लेना देना नहीं ।" क्रमश : (to be continue...) BLOG.. Is it INDIA  Junk Stuffs from my mind
साभार श्री कपिल गर्ग जी के ब्लाग..इज इट इंडिया से । आपका बेहद आभार कपिल जी

आवश्यक सूचना

इस ब्लाग में जनहितार्थ बहुत सामग्री अन्य बेवपेज से भी प्रकाशित की गयी है, जो अक्सर फ़ेसबुक जैसी सोशल साइट पर साझा हुयी हो । अतः अक्सर मूल लेखक का नाम या लिंक कभी पता नहीं होता । ऐसे में किसी को कोई आपत्ति हो तो कृपया सूचित करें । उचित कार्यवाही कर दी जायेगी ।

Follow by Email