Sunday, 6 March 2011

दिव्या तुम छुटकी हो या बडकी बिलागर ?

ये राधिका भी ! जब देखो तब कहती है । " क्या दिव्या भारी भरकम पोस्ट लगा दी । पका देती हो तुम तो । तुम्हारे लेख पढ़कर तो नींद ही नहीं आती । Diazepam की गोली खाकर नींद बुलानी पड़ती है । "
तो समर्पित है । आज की हलकी फुलकी पोस्ट राधिका के नाम ।
जैसे जैसे उमृ बढती है । बुढापा घेर लेता है । लोग खाना कम कर देते है । सोचते हैं । पचा नहीं पाऊंगा । चटक मटक कपडे कम पहनता है । सोचता है । लोग क्या कहेंगे ? पार्टीज़ में कम जाता है । डरता है कहीं समाज हँसे न मुझ पर । घर में बूढी कुर्सी पर खुद ही बैठने लगता है । डरता है कहीं कोई टोक न दे । मुख्य सोफे पर बैठने से ।
न भाई ना । डरिये नहीं । जीने के यही चार दिना । जिंदगी न चले प्यार बिना । धन दौलत बिना चले मगर । जिंदगी ना चले यार बिना । इसलिए खुद को । खुद ही अकेला मत कीजिये । मिलकर रहिये । बुज़ुर्ग कम हों । तो युवाओं के साथ हाथ मिलाइए । फिर देखिये । ज़िन्दगी आप पर किस तरह मेहरबान होती है । उनकी ऊर्जा से खुद को चिरयुवा बनाइये । अपने अहम को ताक पर रखकर युवाओं और बच्चों की मस्ती भरी अटखेलियों का आनंद उठाइए । और निरंतर ऊर्जान्वित रहिये ।
अरे हम तो भटक गए । बात हो रही ब्लॉगर्स की । हाँ तो जनाब । जैसे जैसे एक ब्लॉगर बड़ा होता जाता है । उसकी टिप्पणियां छोटी हो जाती हैं । ऐसा क्यों ? अरे भाई वो डरने लगता है ।
क्योंकि..1 कहीं कुछ कम ज्यादा न लिख दे । 2 कहीं कोई विवाद न हो जाए । 3 कहीं कोई छुटके ब्लॉगर का मान न बढ़ जाए । 4 कहीं छुटंकू का TRP न बढ़ जाए । 5 कहीं छुटकू ज्यादा भाव न खाने लगे । 6 कहीं मेरी महिमा घटने न लगे । 7 सबको पता चल जाएगा कि मैं इसे पढता हूँ ।
मैं दूसरों को तो टिप्पणी करने से नहीं रोक सकता । लेकिन अपनी एक टिप्पणी से तो इसको वंचित कर ही डालूँ ।
बडके बिलागर की चार पोस्ट पर टिप्पणी करो । तब आयेंगे गरीबों की एक पोस्ट पर । 4 : 1 का रेशिओ । और छुटकू उसी में हो जायेंगे मगन कि तारनहार आये हमरे द्वार । लगेंगे गाने । आभार । आभार । आभार ।
कभी कभी तो राधिका जैसे बडके ब्लॉगर दांत भींचे लौट जाते हैं । और छुटकी टिप्पणी भी नहीं देते । धत तेरे की । ऐसा भी क्या गुमान ??
कभी कभी तो बडके ब्लॉगर इतनी microscopic टिप्पणी देते हैं कि हम उतने micro सूक्ष्म स्तर तक सोच ही नहीं पाते । और उनके monosyllable । इकलौते शब्द । में व्यक्त अनेकार्थों को समझ ही नहीं पाते ।
कभी कभी वो invisible ink में लिखते हैं । जो कमेन्ट बॉक्स में नज़र ही नहीं आती । वो आते हैं । पढ़ते हैं । होठों ही होठों में बुदबुदाते हैं । और बिना चाय पानी । दुआ सलाम के चले जाते हैं ।
कभी कभी बड़का ब्लॉगर घबराते हैं कि कहीं उनकी टिप्पणी भीडभाड़ में खुवाय न जाए । इसलिए भी खुद को अलग थलग ही रखते हैं ।
जाने कौन कौन से डर पाले हैं । मन में । डरिये मत । लिख डालिए । दर्दे दिल । हाले मन । मन की हलचल । या फिर भड़ास । टिप्पणी तो आखिर टिप्पणी है । लेखक का मनोबल ही बढ़ाएगी । घटाएगी नहीं । और यकीन मानिए । टिप्पणी लिखकर आप बडके से
छुटके ब्लॉगर कदापि नहीं बनेंगे । बल्कि आपकी शान में एक और feather बढ़ जाएगा ।
थोडा सा प्रवचन झेलेंगे क्या ?
Food chain का नाम तो सुना ही होगा । एक सीधा खड़ा हुआ शंकु upright pyramid होता है । जिसमें ढेरों टिड्डे एक साथ दल बनाकर जीवन का मज़ा लेते हैं । लेकिन शिखर पर बैठा शेर अकेला होता है । वो राजा है । उसकी जी हुजूरी करने वाले असंख्य होते हैं । लेकिन दोस्त कोई नहीं होता ।
corporate world की बात करें । तो शीर्ष पर बैठा CEO नितांत अकेला पड़ जाता है । जीवन की हलकी फुलकी बात किससे करे ? अरे बड़ा होने का खामियाजा तो बड़े लोग ही जानते है ।..तनहा तनहा हम रो लेंगे । महफ़िल महफ़िल गायेंगे ।
मुई राधिका मेरा पीछा नहीं छोड़ेगी । पूछती है । दिव्या तुम छुटकी हो या बडकी बिलागर ?
हमने कहा । अरी मूरख । इतनी बड़ी बड़ी टिपण्णी लिखती हूँ कि पढने वाला भी पक जाए । दिल से लिखती हूँ दिल से । एक हाथ से लेती हूँ । दोनों हाथ से देती हूँ । सौजन्य IDBI Bank । इसलिए छुटकी बिलागर हूँ छुटकी । और हमेशा छोटे ही बने रहना चाहती हूँ ।..कल और आयेंगे नगमों की । खिलती कलियाँ चुनने वाले । मुझसे बेहतर लिखने वाले । तुमसे बेहतर पढने वाले ।
इसलिए जी भर के लिखो । लेख भी । और टिपण्णी भी । आपके शब्द ही आपकी पहचान हैं ।
वैसे कोशिश करती हूँ । कम खर्च बालानशीं । की तर्ज पर संक्षेप में लिखकर काम चलाया करूँ । पर क्या करूँ ? ये निगोड़ी उंगलियाँ मानती ही नहीं । कहती हैं । ये दिल मांगे मोर । आभार ।
साभार । डा. दिव्या जी के ब्लाग " जील " से । आपके उत्तम विचारों के लिये धन्यवाद दिव्या जी

आवश्यक सूचना

इस ब्लाग में जनहितार्थ बहुत सामग्री अन्य बेवपेज से भी प्रकाशित की गयी है, जो अक्सर फ़ेसबुक जैसी सोशल साइट पर साझा हुयी हो । अतः अक्सर मूल लेखक का नाम या लिंक कभी पता नहीं होता । ऐसे में किसी को कोई आपत्ति हो तो कृपया सूचित करें । उचित कार्यवाही कर दी जायेगी ।

Follow by Email